जानिए अंचल अधिकारी का अधिकार क्या है? (Anchal Adhikari Ka Adhikar)

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

अंचल निरीक्षक कौन होता है (Anchal nirikshak kon hota hai) | अंचल अधिकारी का अधिकार (Anchal adhikari ka adhikar) | अंचल निरीक्षक किसे कहते हैं | अंचल अधिकारी कौन होता है | क्या अंचल अधिकारी और अंचल निरीक्षक एक ही ऑफिसर है | एक अंचल अधिकारी का क्या काम होता है | अंचल अधिकारी बनते कैसे हैं | किसी भी जिला में एक अंचल अधिकारी की क्या जिम्मेदारी होती है | अंचल निरीक्षक चयनित प्रक्रिया | एक अंचल अधिकारी किन प्रकार के कागजातों से जुड़े काम करता है आदि जैसे कई सारे प्रश्नों के उत्तर आज के इस आर्टिकल में हम जानते है।

आपने अक्सर अंचल निरीक्षक या अंचल अधिकारी का नाम जरुर सुना होगा, क्योंकि क्षेत्र में होने वाले सभी कागजात से जुड़े कामों की जिम्मेदारी इन पर ही होती है।

ऐसा इसलिए क्योंकि आपने देखा होगा कि अगर आप किसी जमीन से जुड़ी समस्याओं का निवारण चाहते हैं या फिर अगर किसी जमीन में किसी प्रकार का साझेदारी या हिस्सेदारी में दिक्कतें आ रही है तो इन सभी समस्याओं का निवारण अंचल निरीक्षक या फिर अंचल अधिकारी के द्वारा किया जाता है।

जमीन की रजिस्ट्री से लेकर कहीं प्रकार के प्रमाण पत्रों को बनाने में भी अंचल अधिकारी अपनी एक मुख्य भूमिका निभाता है।

लेकिन इन सभी कामों को करने आदि में लोग तो अंचल अधिकारी की सहायता ले लेते हैं लेकिन उन्हें वास्तव में या नहीं पता होता कि अंचल अधिकारी का अधिकार क्या है? यानी उनकी जिम्मेदारियां क्या है?

या फिर हम यह कह सकते हैं कि अंचल निरीक्षक कौन होता है इसके बारे में सही प्रकार की जानकारी कई सारे लोगों को नहीं होती है।

हमारे आर्टिकल में अंत तक बन रहे हम आपको अंचल निरीक्षक कौन होता है? एक अंचल अधिकारी की जिम्मेदारी क्या होती है? इससे जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी आज के इस आर्टिकल में हम विस्तार से जानेंगे।

जानिए अंचल अधिकारी का अधिकार क्या है? (Anchal Adhikari Ka Adhikar)

अंचल अधिकारी का अधिकार (Anchal Adhikari Ka Adhikar Kya Hai)

किसी भी क्षेत्र के अंचल निरीक्षक के ऊपर उस क्षेत्र की पूर्ण जिम्मेदारी होती है, यानी उस क्षेत्र में कागजातों आदि से हुए जाने वाले सभी कार्यों के लिए एक अंचल निरीक्षक ही जिम्मेदार होता है।

बहुत से लोगों के मन में प्रश्न आते हैं कि अंचल अधिकारी और अंचल निरीक्षक अलग-अलग पद हैं? लेकिन ऐसा नहीं है, अंचल अधिकारी और अंचल निरीक्षक एक ही व्यक्तित्व वाले पद है।

अर्थात हम एक अंचल अधिकारी को अंचल निरीक्षक भी कहते हैं, क्योंकि वह पूरे क्षेत्र का निरीक्षण करके उसे क्षेत्र का विकास करता है।

हम अंचल निरीक्षक को अंग्रेजी में सर्कल इंस्पेक्टर कह सकते हैं या फिर अगर हिंदी में बात की जाए तो इसे हम अंचल अधिकारी या अनुमंडल निरीक्षक अधिकारी भी कहकर  बोलते हैं।

अंचल निरीक्षक किसी भी क्षेत्र का मुख्य अधिकारी होता है, जिसके ऊपर पूरे क्षेत्र के जमीन संबंधित कार्यों की पूर्ण जिम्मेदारी होती है।

एक सर्कल इंस्पेक्टर (सीओ) यानी अंचल निरीक्षक, सब-डिविजनल पुलिस ऑफिसर (एसडीपीओ),पुलिस उप अधीक्षक (डीएसपी), सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) के रैंक का ही एक पुलिस अधिकारी होता है, जो सभी राज्यों में एक independent पुलिस की भूमिका निभाता है। 

अंचल निरीक्षक के पास जमीन का बीमा करने की भी जिम्मेदारी होती है, जमीन का बीमा करने से पहले वह जमीन का निरीक्षण करता है और यह पता करता है की जमीन के लिए जो जानकारी दी जा रही है वह सही है, तभी वह जमीन का बीमा करता है।

केवल इतना ही नहीं एक अंचल निरीक्षक जमीन में हो रही विवादित बंटवारे का भी समाधान करता है, किसी क्षेत्र के जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, आरक्षित श्रेणी प्रमाण पत्र आदि जैसे कई प्रकार के प्रमाण पत्र को जारी करने के लिए भी अंचल निरीक्षक ही जिम्मेदार होता है।

यह सभी कागजात बिना अंचल अधिकारी या अंचल निरीक्षक के हस्ताक्षर के व्यर्थ हैं, जब तक एक अंचल अधिकारी इन सभी कागजातों को मान्यता नहीं प्रदान करता है, तब तक इन सभी प्रमाण पत्र की अपनी कोई मान्यता नहीं है।

केवल इतना ही नहीं एक अंचल अधिकारी या अंचल निरीक्षक की इन सभी बातों के अलावा भी अन्य कई अधिकार होते है।

Also Read: जिला प्रशासनिक अधिकारी कौन होता है (Jila Prashasnik Adhikari Kaun Hai)

अंचल अधिकारी को प्राप्त अधिकार क्या है?

तो चलिए अब हम एक अंचल अधिकारी के कुछ प्रमुख अधिकारों को जानते हैं, कि एक अंचल अधिकारी के पास कौन-कौन से अधिकार होते हैं।

  • अंचल अधिकारी प्रत्येक दाखिल-खारिज याचिका के लिए एक पृथकवाद अभिलेख खोलवाएगा, यानी क्षेत्र के द्वारा दी जाने वाली सभी प्रकार की एप्लीकेशन का निवारण करने के लिए सभी अधिकार एक अंचल अधिकारी के पास होते हैं।
  • किसी भी क्षेत्र का अंचल अधिकारी के पास यह अधिकार होता है कि वह उस क्षेत्र में रहने वाले लोगों को कई प्रकार के प्रमाण पत्र जारी कर सकता हैं।
  • एक अंचल अधिकारी के पास जमीन संबंधित सभी प्रकार की समस्याओं का निवारण करने का अधिकार होता है।
  • अनुमंडल क्षेत्र में हो रहे सभी प्रकार के कानूनी कामों की सही तरीके से देख रेख करना एक अंचल अधिकारी का अधिकार होता है।
  • अगर किसी अंचल अधिकारी के क्षेत्र में किसी प्रकार का गैर कानूनी काम हो रहा है तो उन कामों को रोकना भी एक अंचल अधिकारी का अधिकार है, वह गैर कानूनी कामों को रोकने के लिए कोई सख्त निर्णय भी ले सकता है।
  • किसी भी क्षेत्र का अंचल अधिकारी अपने क्षेत्र में किसी भी परिसर में संदेह होने पर तलाशी ले सकता है।
  • मद्य निषेध अधिनियम एवं अन्य भी इसी तरह के अधिनियम जो सभी राज्यों में लागू है उन सभी अधिनियम का उल्लंघन करने वालों को अंचल अधिकारी कानूनी रूप से सजा दिला सकता है।

अंचल अधिकारी की जिम्मेदारी 

एक अंचल अधिकारी पास कई तरह की जिम्मेदारियां होती हैं, जिम्मेदारियां इसलिए है कि वह उन सभी जिम्मेदारी को पूरी करके अपने जिले का कल्याण करें।

तो चलिए अब हम अंचल अधिकारी की जिम्मेदारी को कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं के द्वारा जानते हैं।

  • एक अंचल अधिकारी या अंचल निरीक्षक के पास पूरे क्षेत्र की जिम्मेदारी होती है, यानी अनुमंडल के अंतर्गत आने वाले सभी क्षेत्रों में सभी सुविधाएं उपलब्ध है या नहीं इन सभी की देख रेख करना एक अंचल अधिकारी का काम होता है।
  • अंचल अधिकारी क्षेत्र से जुड़े सख्त निर्णय भी ले सकता है क्योंकि उसके पास पूरे क्षेत्र की जिम्मेदारी होती है कि क्षेत्र में विकास हो।
  • क्षेत्र में किसी भी प्रकार की सुविधाओ की  कमी होने पर उस क्षेत्र की उस कमी को पूरा करने के लिए भी एक अंचल अधिकारी जिम्मेदार होता है।
  • अनुमंडल के अंतर्गत जितने भी क्षेत्र एक अंचल अधिकारी के अंतर्गत होते हैं, उन सभी क्षेत्र की पूर्ण जिम्मेदारी एक अंचल अधिकारी की ही होती है।
  • अगर किसी अनुमंडल क्षेत्र में किसी प्रकार का विकास का कार्य रुका हुआ है और वह समय से पूरा नहीं हुआ है, तो इसके लिए पूर्ण रूप से एक अनुमंडल अधिकारी यानी एक अंचल अधिकारी ही जिम्मेदार होता है।
  • क्षेत्र में हो रहे कागजाति मामले यानी जमीन विवाद एवं संपत्ति का बंटवारा आदि जैसे कामों के लिए भी एक अंचल अधिकारी जिम्मेदार होता है, उनके पास दायित्व होता है कि वह लोगों में सलाह करके संपत्ति का बंटवारा सही तरीके से करें।
  • किसी भी अनुमंडल के क्षेत्र में आने वाले लोगों के प्रमाण पत्र यानी जाति, आवास, आय, ईडब्ल्यूएस आदि जैसे प्रमाण पत्र सर्टिफिकेट बनवाने के लिए भी हमें एक अनुमंडल अधिकारी यानी अंचल अधिकारी के हस्ताक्षर चाहिए।
  • एक अंचल अधिकारी को उसके क्षेत्र के सभी प्रकार के विकास कार्यों में योगदान देने की भी जिम्मेदारी होती है।

अंचल अधिकारी का काम क्या होता है?

एक अंचल अधिकारी का काम होता है, कि सरकार के द्वारा दिए जाने वाले सभी प्रकार के अधिकारों के साथ अपने दायित्वों को पूरा करना।

किसी भी क्षेत्र के अंचल अधिकारी के पास कई तरह की जिम्मेदारियां होती है, उन सभी जिम्मेदारियो को पूरी करना एक अंचल अधिकारी का काम होता है।

एक अंचल अधिकारी का काम होता है कि क्षेत्र में होने वाले सभी प्रकार के गैर कानूनी एवं गलत कामों को रोकना।

केवल इतना ही नहीं इसके साथ-साथ क्षेत्र में होने वाले कई सारे कागजाति मामलों के लिए भी एक अंचल अधिकारी जिम्मेदार होता है।

आम शब्दों में कहा जाए तो एक अंचल अधिकारी का मुख्य रूप से काम अपने क्षेत्र की देख रेख करना होता है, क्योंकि अगर क्षेत्र में किसी प्रकार की विकास संबंधित समस्याएं होती है तो इसके लिए अंचल अधिकारी ही जिम्मेदार होता है।

Also Read: कमिश्नर कितने जिलों का मालिक होता है। एक राज्य में कितने कमिश्नर होते है?

अंचल अधिकारी कैसे बनते हैं?

जो भी उम्मीदवार एक अंचल अधिकारी बनना चाहते हैं उन्हें अंचल अधिकारी बनने के लिए पीसीएस की परीक्षा देनी होती है जो कि हर राज्य के द्वारा हर साल समय-समय पर आयोजित होती है।

लेकिन मुख्य सवाल यह आता है कि अंचल अधिकारी कैसे बनते हैं? अंचल अधिकारी बनने के लिए पीसीएस परीक्षा की तीन चरण होते हैं, तीनों चरणों को पास करना होता है तभी कोई भी उम्मीदवार एक अंचल अधिकारी के रूप में कार्यरत हो सकता है।

तो चलिए अब हम कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं के द्वारा जानते हैं कि आप एक अंचल अधिकारी कैसे बन सकते हैं।

  • सबसे पहले आप अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करें, स्नातक में आपने जो भी विषय लिया हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है, आपको केवल स्नातक पास होना चाहिए।
  • स्नातक पास होने के बाद आप पीसीएस परीक्षा की तैयारी शुरू कर दें।
  • सरकार के द्वारा समय-समय पर पीसीएस की वैकेंसी हर साल निकाली जाती है, अपने राज्य की पीसीएस की वैकेंसी के लिए आवेदन करके आप पीसीएस की परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।
  • एक अंचल अधिकारी बनने के लिए आपको पीसीएस की तीनों चरणों की परीक्षाओं को अच्छे अंकों से पास करना जरूरी होता है।
  • पीसीएस परीक्षा की पहले चरण में प्रारंभिक परीक्षा होती है जो कि लिखित परीक्षा होती है और इसमें ऑब्जेक्टिव टाइप प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • प्रारंभिक परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवार दूसरी परीक्षा मुख्य परीक्षा की ओर जा पाते हैं और मुख्य परीक्षा पास करने के बाद इंटरव्यू।
  • इंटरव्यू में साक्षात्कार के माध्यम से उम्मीदवारों को कुछ प्रश्नों के उत्तर देने होते हैं जिसके बाद उनके द्वारा ले गए अंकों के आधार पर एक मेरिट लिस्ट तैयार होती है, जिनके आधार पर उन्हें अंचल अधिकारी की नौकरी मिलती है।

अंचल निरीक्षक चयनित प्रक्रिया क्या है?

किसी भी क्षेत्र में अंचल निरीक्षक या अंचल अधिकारी का चयन तीन प्रक्रियाओं के अंतर्गत होता है, एक अंचल निरीक्षक निम्न प्रक्रियाओं द्वारा चयनित होते हैं।

  • अंचल निरीक्षक बनने के लिए पहली प्रक्रिया प्रारंभिक परीक्षा होती है, जिसको पास करने के बाद ही उम्मीदवार मुख्य परीक्षा दे सकता है।
  • मुख्य परीक्षा दूसरा चरण होती है जिसको पास करने के बाद ही एक अंचल निरीक्षक बनने वाला उम्मीदवार इसके अंतिम चरण की ओर जा सकता है।
  • अंत में इंटरव्यू होता है जो कि सबसे तीसरा और अंतिम चरण होता है, इंटरव्यू पास करने के बाद तीनों परीक्षाओं में लाए गए अंकों के आधार पर आपकी मेरिट लिस्ट तैयार होती है।
  • मेरिट लिस्ट के आधार पर ही आप एक अंचल निरीक्षक के रूप में कार्यरत हो पाते हैं।

अंचल निरीक्षक को इंग्लिश में क्या कहा जाता है?

इंग्लिश में अंचल निरीक्षक को Circle inspector या circle officer कहां जाता है, हम अंचल निरीक्षक को ही अंचल ऑफिसर कहते हैं।

अंचल निरीक्षक ब्लॉक लेवल के प्राथमिक राजस्व राजपत्रित अधिकारी होते हैं, यह अधिकारी भी बीडियो (BDO) के समान होते हैं।

FAQs – अंचल अधिकारी का अधिकार आदि से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न

अंचल निरीक्षक से संबंधित सवाल जवाब पढ़ें, जो नीचे दिया गया है।

#1. अंचल अधिकारी कैसे बनते हैं?

किसी भी क्षेत्र के अंचल अधिकारी बनने के लिए आपको उसे राज्य से अंचल अधिकारी के लिए पीसीएस की परीक्षा देनी होती है और पीसीएस परीक्षा के लिए किसी भी उम्मीदवार का ग्रेजुएशन पास होना अनिवार्य है।

पीसीएस की परीक्षा के तीनों चरणों को पास करने वाले उम्मीदवार ही अंचल अधिकारी बनते हैं।

#2. अंचल अधिकारी राजपत्रित है?

जी हां, हमारे भारतीय प्रशासनिक सेवा में अंचल अधिकारी को राजपत्रित कहा गया है, यानी एक अंचल आधिकारी राजपत्रित अधिकारी होता है।

राजपत्रित अधिकारी का तात्पर्य है एक ऐसा सरकारी अधिकारी जिसकी नियुक्ति और प्रोमोशन सरकार के राजपत्र के द्वारा होती है।

#3. अंचल अधिकारी को इंग्लिश में क्या कहते हैं?

इंग्लिश में अंचल अधिकारी को सर्किल ऑफिसर कहा जाता है, जिसका तात्पर्य है कि किसी एक क्षेत्र या जिला का अधिकारी।

#4. अंचल अधिकारी का क्या काम होता है?

आमतौर पर अंचल अधिकारी का मुख्य काम जमीन संबंधित मामलों की देखरेख करना होता है, लेकिन इसके अलावा भी अन्य बहुत सारे काम अंचल अधिकारी के होते हैं।

जैसे जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र आदि जैसे प्रमाण पत्र को जारी करना, दर्ज रैयत से मालगुजारी प्राप्त करना आदि जैसे कई सारे काम होते हैं।

निष्कर्ष | अंचल अधिकारी का अधिकार क्या है?

आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको बताया कि अंचल निरीक्षक कौन होता है | अंचल अधिकारी का अधिकार या फिर अंचल अधिकारी की क्या जिम्मेदारियां होती है | आप अंचल अधिकारी किस प्रकार बना सकते हैं?

एक अंचल अधिकारी का क्या काम होता है या उन पर किस प्रकार के दायित्व होते हैं? आदि जैसे प्रश्नों के बारे में आज के इस आर्टिकल में मैंने विस्तार पूर्वक जानकारी दी है।

केवल इतना ही नहीं एक अंचल अधिकारी बनने के लिए कौन-कौन सी प्रक्रियाओं को पूरा करना होता है उन सभी की जानकारी मैं इस आर्टिकल में बताई है।

अंत में अंचल अधिकारी से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न भी इस आर्टिकल में मैंने बताए हैं, आशा करती हूं मेरे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके पास इस आर्टिकल से जुड़े कोई प्रश्न हो तो कमेंट करके मुझसे अवश्य पूछे हमारे आर्टिकल में अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद।

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

Leave a Comment