अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है (Anchal nirikshak sah Kanoongo kya hai) | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य (Anchal nirikshak sah Kanoon go ke karya)

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है (Anchal nirikshak sah Kanoongo kya hai) | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य (Anchal nirikshak sah Kanoon go ke karya) | सह कानूनगो क्या है | कानूनगो क्या है | अंचल निरीक्षक का कानूनगो कौन होता है | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो को कौन-कौन से काम करने होते हैं | सह कानूनगो की क्या जिम्मेदारी होती है | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बनने के लिए क्या करना होता है? आदि जैसे कई महत्वपूर्ण प्रश्नों के बारे में आज के इस आर्टिकल में हम मुख्य रूप से जानने वाले हैं।

आपने अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का नाम तो जरुर सुना होगा, अगर नहीं सुना है तो मैं आपको याद दिला देती हूं कि आपने सीजीएल की परीक्षा में निकाले गए सभी पदों में एक पद अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का भी होता है।

इस परीक्षा को देने वाले अभ्यर्थी अक्सर इस पद के बारे में जानने को इच्छुक होते हैं कि अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है? या कौन होता है?

आज के इस आर्टिकल के द्वारा हम आपको मुख्य रूप से अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के बारे में बताने वाले हैं।

इस आर्टिकल में हम अंचल निरीक्षक सह कानून के बारे में जानेंगे कि यह क्या होता है? अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य क्या है?

यह किस विभाग के अंतर्गत आता है? | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बनने के लिए क्या करना होता है? | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य क्या है? | सह कानूनगो क्या है? आदि जैसे कई सारी प्रश्न जो अंचल निरीक्षक सह कानूनगो से जुड़े प्रश्न हैं, उसके बारे में हम आज के इस आर्टिकल में जानेंगे।

अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है (Anchal nirikshak sah Kanoongo kya hai)
Content Headings show

अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है (Anchal nirikshak sah Kanoongo kya hai)

राजस्व भूमि सुधार विभाग के अंतर्गत आने वाला पद अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का है, यह एक प्रकार का राज्य स्तरीय पद है।

राज्य स्तरीय पद से हमारा तात्पर्य है कि इनका पदस्थापन राज्य के अंतर्गत किसी भी स्थान पर हो सकता है।

अगर आम शब्दों में कहा जाए तो अंचल निरीक्षक सह कानूनगो एक ऐसे अधिकारी होते हैं, जो सभी प्रकार के कामों एवं दायित्व का निरक्षण करते है जो कि एक राजस्व अधिकारी के होते हैं, उन सभी कामों का निरीक्षण करके राजस्व अधिकारी को देना इनका काम है।

उसके बाद राजस्व अधिकारी उन सभी कामों को मान्यता देता है, लेकिन ऐसा नहीं है कि राजस्व अधिकारी की अपनी कोई भूमिका नहीं है राजस्व अधिकारी समाज में होने वाले सभी प्रकार के कामों के लिए जिम्मेदार होता है।

अगर अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के पदों के बारे में बात की जाए कि इन्हें मुख्य रूप से कौन-कौन से कार्यालय में काम करने को मिलता है, तो अंचल निरीक्षक सह कानूनगो पदस्थापन मुख्य रूप से तीन कार्यालय में होता है।

  • अंचल अधिकारी का कार्यालय (circle officer office)
  • बंदोबस्त कार्यालय (settlement office)
  • जिला भू अर्जन कार्यालय (district land acquisition office)

अब तक हमने यहां जाना कि अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है? और किन कार्यालय में इन्हें काम करने होते हैं।

तो चलिए अब हम दूसरा सबसे मुख्य सवाल  अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का काम क्या होता है? इसके बारे में भी जानते हैं।

Also Read: जानिए अंचल अधिकारी का अधिकार क्या है? (Anchal Adhikari Ka Adhikar)

अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य (Anchal nirikshak sah Kanoon go ke karya)

किसी भी राज्य के अंचल निरीक्षक सह कानूनगो की भूमिका अपने-अपने कार्यालय के अनुसार होती है अर्थात अगर वह अंचल अधिकारी के कार्यालय में काम करेंगे तो उनके कार्य अलग होंगे।

वही वह अंचल अधिकारी के अलावा अन्य कार्यालय जैसे बंदोबस्त कार्यालय भू वर्जन कार्यालय में काम करते हैं तो उनके दायित्व एवं जिम्मेदारियां अलग-अलग होगी।

तो चलिए अब हम सभी कार्यालय के अनुसार कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं के द्वारा जानते हैं कि अंचल निरिक्षक सह कानूनगो को तीनों कार्यालय में किस तरह की जिम्मेदारियां या कार्य मिलती है।

अंचल अधिकारी का कार्यालय (circle officer office) में अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य

  • अंचल अधिकारी का कार्यालय (circle officer office) में जो भी कार्य एक अंचल अधिकारी के होते हैं उन सभी कार्यों में सहयोग करना अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का काम होता है।
  • भूमि संबंधित रिपोर्ट तैयार करना, जमीन की नापी, भू लगान, भूमि बंदोबस्ती, ग्राम प्रधान की नियुक्ति, वंशावली, प्रमाण पत्र आदि संबंधित रिपोर्ट जैसे कई प्रकार के अन्य भी रिपोर्ट का निरीक्षण करके तैयार करना और अंचल अधिकारी के पास भेजना इनका काम होता है।
  • इनके द्वारा निरीक्षित किया गया काम ही एक अंचल अधिकारी मान्य करता है, अंचल अधिकारी के द्वारा मान्य किए जाने वाले सभी कार्य सबसे पहले अंचल निरीक्षक सह कानूनगो द्वारा निरीक्षण किए जाते हैं।

अगर आम शब्दों में एक अंचल निरीक्षक कानूनगो का काम का वर्णन किया जाए तो उनके द्वारा निरीक्षण किया जाने वाला काम ही एक अंचल अधिकारी के पास जाता है।

अर्थात इसका तात्पर्य यह है कि एक अंचल अधिकारी के जितने भी कम होते हैं उन सभी कामों का निरीक्षण एक अंचल निरीक्षक कानूनगो ही करता है।

अब बात आती है, दूसरे कार्यालय की जो है बंदोबस्त कार्यालय।

बंदोबस्त कार्यालय (settlement office) में अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य

  • बंदोबस्त कार्यालय में समय-समय पर होने वाली जमीन की सर्वे एवं सर्वे से जुड़े अन्य बहुत से कम जो एक बंदोबस्त कार्यालय में राजस्व अधिकारी के होते हैं वह सभी कामों के लिए में अंचल निरीक्षक सह कानूनगो भी जिम्मेदार होता है।
  • अमीन के द्वारा जो भी जमीन संबंधित नाप लिए जाते हैं उन सभी नाप को दस्तावेज में देना बंदोबस्त कार्यालय में अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का काम होता है।
  • वंशावली के आधार पर नए रैयत का नाम देना एवं वंशावली के आधार पर जो भी जमीन संबंधित कागजात होते हैं, और इससे जुड़े सभी कामों को अंचल निरीक्षक सह कानूनगो हीं करता है उसके बाद यह कागजात बंदोबस्त कार्यालय में राजस्व अधिकारी के पास हस्ताक्षर के लिए जाते हैं।
  • नहीं पर्ची एवं नए खतियान का काम भी बंदोबस्त कार्यालय में एक अंचल निरीक्षित सह कानूनगो को ही करता है, काम से हमारा तात्पर्य है कि खतियान एवं पर्ची के सभी काम एक अंचल निरीक्षक सह कानूनगो करके एक राजस्व अधिकारी के पास भेजता है।

केवल इतना ही इसके अलावा भी अन्य जमीन संबंधित कागजातों जैसे की खतियान, नई पर्ची, पुरानी पर्ची आदि जैसे कई सारे काम एक अंचल निरीक्षक सह कानूनगो ही करता है।

उसके उपरांत वह राजस्व अधिकारी को अपने द्वारा किए गए काम देता है कि वह उस पर हस्ताक्षर करके मान्य कर सके।

जिला भू अर्जन कार्यालय (district land acquisition office) में अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य

  • जैसे कहीं पर सरकार के द्वारा रेल का काम किया जाता है और रेलवे लाइन बिछाने के दौरान कुछ जमीन किसी व्यक्ति की संपत्ति में से आ जाती है, तो ऐसे में उस व्यक्ति से जमीन लेकर सरकार को देना अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का काम है।
  • इसके अलावा सरकार के द्वारा अगर सड़क का चौड़ीकरण करवाया जाता है, तो इसमें भी अगर किसी व्यक्ति की भूमि उसमें निकल जाती है तो सरकार के द्वारा उसकी राशि देकर वह जमीन ले ली जाती है यह काम भी अंचल निरीक्षक सह कानूनगो हीं करता है।
  • ऐसे सभी मामले जिसमें सरकार भूमि अधिग्रहित करना चाहती हो, उन सभी कामों को एक अंचल निरीक्षक सह कानूनगो करवाता है।
  • अधिकृत करने के बदले में सरकार अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के द्वारा जिसकी भूमि है, उस व्यक्ति को रैयत यानी पैसे भी देता है।
  • सरकार के द्वारा शहरो का विकास करने में अगर किसी व्यक्ति की भूमि या संपत्ति का नुकसान होता है तो उसके बदले में मुआवजा राशि का बिल बनाने एवं सरकार से मुआवजा दिलवाने का काम अंचल निरीक्षक सह कानूनगो का है।

हालांकि यह सभी काम एक अंचल निरीक्षक सह कानूनगो, एक राजस्व अधिकारी के निर्देशों में रहकर ही करता है।

यह सभी काम एक अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के हैं, राजस्व अधिकारी को केवल यह सभी कामों को मान्यता देनी होती है।

अर्थात अगर इसे आसान शब्दों में कहा जाए तो एक अंचल अधिकारी को अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के द्वारा किया जाने वाला सभी निरक्षित कामों को मान्यता देना होता है।

यानी सभी प्रकार के कामों का निरीक्षण एवं जांच आदि जैसे कार्य एक अंचल निरीक्षक ही करता है इन्हें मान्यता केवल राजस्व अधिकारी देता है।

लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है, कि राजस्व अधिकारी का कोई काम नहीं होता है राजस्व अधिकारी ही पूरे क्षेत्र में होने वाले कामों के लिए जिम्मेदार होता है।

इसलिए अगर अंचल निरीक्षक सह कानूनगो कोई काम उन्हें करके देता है, तो उन्हें जांच करके मान्यता देना होता है, क्योंकि अंत में एक अंचल निरीक्षक सह कानूनगो को ही किसी भी प्रकार की होने वाली स्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है।

Also Read: सर्किल ऑफिसर क्या होता है (Circle officer kya hota hai) | अंचल अधिकारी कौन होता है? (Anchal adhikari kon hota hai)

सह कानूनगो क्या है?

जिस प्रकार हमने अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के बारे में समझा कि यह एक अधिकारी होते हैं जो कि अंचल अधिकारी के सहायक होते हैं।

सह कानूनगो भी एक प्रकार का सुपरवाइजर होता है जो सभी प्रकार के कामों का निरीक्षण करने के लिए जिम्मेदार होता है।

अंचल निरीक्षक सह कानूनगो को हम सह कानूनगो भी कह सकते हैं क्योंकि दोनों का काम निरीक्षण करना ही है।

यह लेखपाल से बड़ा पद होता है इस पद के उम्मीदवारों को निरीक्षण करके अपने द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट राजस्व अधिकारी को सौंपनी होती है।

अब बात आती है, कि कानूनगो क्या होता है? तो चलिए अब हम इसके बारे में जानते हैं।

कानूनगो क्या है? 

यह एक प्रकार का हिंदी शब्द है, जो किसी सरकारी अधिकारी के लिए प्रयुक्त होता है, आमतौर पर इसे राजस्व विभाग में काम कर रहे अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के लिए उपयोग में लाया जाता है।

हालांकि अंचल निरीक्षक सह कानूनगो आफिसर को सह कानूनगो भी कहते हैं, लेकिन कई सारे लोग इन्हें केवल कानूनगो कहकर भी संबोधित करते हैं।

भूमि रिकॉर्ड, राजस्व संग्रह और भूमि से जुड़े स्वामित्व के उपयोग से संबंधित अन्य प्रशासनिक कार्यों आदि को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार होने वाला व्यक्ति ही कानूनगो कहलाता है।

भारत के कुछ राज्यों में “कानूनगो” शब्द का प्रयोग राजस्व अधिकारी के बारे में बात करने के लिए भी किया जाता है, जो गांवों में किसी समूह या राजस्व मंडल के प्रभारी होते है।

कानूनगो के कर्तव्य और जिम्मेदारियां जिस क्षेत्र में वह काम कर रहे है, उस क्षेत्र और सरकारी विभाग के आधार पर उनकी जिम्मेदारियां भी भिन्न हो सकती हैं जिसके लिए वह काम करते हैं।

उत्तर प्रदेश भू राजस्व अधिनियम, 1901 की धारा 25 में यह साफ तौर पर बताया गया है, की राजस्व अभिलेखों की देख रेख हेतु एवं दुरुस्ती करने के लिए सरकार के द्वारा प्रत्येक जिले में एक या एक से अधिक कानूनगो की नियुक्ति होनी ही चाहिए।

कानूनगो कितने प्रकार के होते है?

उत्तर प्रदेश भू राजस्व अधिनियम 1901 के अनुसार, धारा 234 के अधीन निर्मित लैंड रिकार्ड्स मैन्युअल में यह बताया गया है, कानूनगो तीन प्रकार के होते हैं।

  • रजिस्ट्रार कानूनगो
  • सुपरवाइजर कानूनगो (भू लेख निरीक्षक)
  • सदर कानूनगो

अब हम इसके बारे में विस्तार पूर्वक जानते हैं कि यह तीनों प्रकार के काम क्या होते हैं।

रजिस्ट्रार कानूनगो

इसकी नियुक्ति कलेक्टर के द्वारा होती है, तहसील मुख्यालय में इनका काम होता है हर एक तहसील मुख्यालय में एक कानूनगो ऑफिसर अवश्य रहता है।

तहसील पर सभी अभिलेखों का निरिक्षण और रखरखाव की जिम्मेदारी रजिस्टर कानूनगो की होती है।

लेखपालों के वेतन एवं भत्तों का भी हिसाब किताब रजिस्ट्रार कानून करता है।

सुपरवाइजर कानूनगो (भू लेख निरीक्षक)

यह कानूनगो ऑफिसर में से सबसे महत्वपूर्ण ऑफिसर होता है, इसकी नियुक्ति कलेक्टर के द्वारा की जाती है।

लैंड रिकार्ड्स मैन्युअल की धारा 396 के अनुसार कानूनगो का मुख्य काम लेखपाल पर सामान्य निरीक्षण, गांव के नक़्शे का निरीक्षण, लेखपाल द्वारा रखे जाने वाले अभिलेखों और विवरण की जाँच करना, कृषि उपज में आने वाली कमी का पता लगाना और उसका रोकथाम या निवारण करना भी एक सुपरवाइजर कानूनगो का काम होता है।

इसके ऊपर भूमि से जुड़े सभी प्रकार के कार्यों के दायित्व होते हैं जो एक राजस्व अधिकारी के अंतर्गत आते हैं।

सदर कानूनगो

बोर्ड ऑफ़ रेवेन्यू के द्वारा सदर कानूनगो की नियुक्ति होती है, सुपरवाइजर कानूनगो तथा रजिस्ट्रार कानूनगो के पद पर अगर किसी उम्मीदवार को प्रमोशन मिलता है तभी वह सदर कानूनगो बन पाता है।

इनको प्रमोशन देने का काम बोर्ड ऑफ रेवेन्यू ऑफिसर का होता है, अगर इनके काम की बात की जाए तो इनका काम सुपरवाइजर कानूनगो और रजिस्टर कानूनगो का ही होता है।

अर्थात आप जो काम सुपरवाइजर कानूनगो और रजिस्टर कानूनगो बनकर करेंगे वह काम आपको इसमें करने होते हैं।

अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बनने के लिए क्या करना होता है?

अगर अंचल निरीक्षक सह कानूनगो पद की भर्ती की बात की जाए तो इसकी भर्ती दो तरह से होती है।

  • पहली उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC) के द्वारा होने वाली पीईटी की परीक्षा पास करने के बाद अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के पद पर भर्ती होती है।
  • लेखपाल के पद पर कार्यरत होने के बाद के कुछ समय के बाद आपको प्रमोशन मिलने के बाद भी आप अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के पद पर कार्यरत हो सकते हैं।

अब तक हमने जाना, हम परीक्षा देकर भी अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बन सकते हैं और प्रमोशन पाकर भी अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बन सकते हैं।

अगर प्रमोशन पाकर अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बनने की बात की जाए तो, अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बनने के लिए आपको सबसे पहले लेखपाल बनना होता है।

लेखपाल बनने के बाद आपको कुछ समय के उपरांत प्रमोशन मिलेगा है, आप प्रोमोशन पाकर आप सह कानूनगो बन सकते हैं।

इसके अलावा परीक्षा देकर अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बनने के नियम तो आप जानते ही हैं, परीक्षा की जो भी प्रक्रियाएं होती है वह सभी प्रक्रियाओं को पूरी करके आप एक अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के रूप में काम कर सकते हैं।

निष्कर्ष – अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य

आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको मुख्य रूप से बताया की अंचल निरीक्षक सह कानूनगो क्या है | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो के कार्य | सह कानूनगो क्या है | कानूनगो क्या है | अंचल निरीक्षक सह कानूनगो बनने के लिए क्या करना होगा | कानूनगो कितने प्रकार के होते हैं?

तीनों प्रकारों के बारे में विवरण इस आर्टिकल में मैंने बताया है। केवल इतना ही नहीं अंचल निरीक्षक सह कानूनगो से जुड़ी अन्य कई सारे महत्वपूर्ण सवाल जैसे की अंचल निरीक्षक को कौनकौन से काम करने होते हैं और उन सभी कामों के लिए जिम्मेदार कौन होता है? आदि जैसे अन्य में बहुत से प्रश्न के बारे में इस आर्टिकल में मैंने बताया हैं।

आशा करती हूं कि मेरे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी अगर आपके पास इस आर्टिकल से जुड़े कोई भी प्रश्न हो तो कमेंट करके मुझसे अवश्य पूछे हमारे आर्टिकल में अंत तक बने रहने के लिए आपका धन्यवाद।

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

Leave a Comment