2023 में आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने (Arts Subject Se Doctor Kaise Bane)

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने, BA Ke Baad Medical Course, डॉक्टर बनने की पढ़ाई, डॉक्टर बनने की प्रक्रिया,डॉक्टर की तैयारी कैसे करें, डॉक्टर को कितनी सैलरी मिलती है, डॉक्टर बनने के लिए क्या करना होगा, Kya Arts Wale Doctor Ban Sakte Hain आदि के बारे में अच्छे से समझने के लिए आर्टिकल पूरा पढ़ें।

कई बार स्टूडेंट आर्ट्स सब्जेक्ट लेने के बाद डॉक्टर बनने के बारे में सोचते हैं और आपको तो पता ही है जिसने साइंस स्ट्रीम के बायोलॉजी विषय से पढ़ाई की हो वही स्टूडेंट डॉक्टर बनने की प्रक्रिया में भाग ले सकता है। इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने के बारे में हिंदी में पूरा नॉलेज देंगे।

इस आर्टिकल में हम आपको डॉक्टर बनने के लिए कौनसी पढ़ाई करनी चाहिए, Kya Arts Wale NEET De Sakte Hain, Arts Wale Student Doctor Kaise Bane, डॉक्टर बनने के लिए कौन सी डिग्री चाहिए, 12th Arts Ke Baad Medical Course आदि के बारे में भी पूरी जानकारी देंगे।

2023 में आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने (Arts Subject Se Doctor Kaise Bane)
Content Headings show

आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने (Arts Subject Se Doctor Kaise Bane)

अगर आप जानना चाहते हैं कि आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने तो इसके बारे में भी जानकारी आपको मिल जाएगी। आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर बनने के बारे में बताएं तो अगर आपने 10वीं कक्षा के बाद आर्ट्स विषय चुना है और आर्ट्स विषय से ही 12वीं पास करके आपने बीए की डिग्री हासिल की है तो आप मेडिकल के क्षेत्र में नहीं जा सकते हैं यानी आपके डॉक्टर बनने के चांस बिल्कुल भी नहीं है।

वहीं अगर आपने 10वीं कक्षा के बाद साइंस स्ट्रीम के बायोलॉजी विषय को चुना है और 12वीं कक्षा भी इसी विषय से पास की है और बाद में आपने बीए की पढ़ाई की है तो आपके डॉक्टर बनने के चांस है लेकिन अगर आप डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आप की बीए की डिग्री उसमें काम नहीं आएगी बल्कि आपको 12वीं कक्षा की मान्यता के आधार पर ही मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम देकर एमबीबीएस की पढ़ाई शुरू कर सकते हैं।

Also Read: जानिए बायोटेक्नोलॉजी का महत्व क्या है?

अगर आप बीए में ग्रेजुएशन के बाद मेडिकल कोर्स करना चाहते हैं तो कर सकते हैं जरूरी यह है कि आपने 12वीं में साइंस स्ट्रीम से बायोलॉजी की पढ़ाई की हो इसलिए मेडिकल कोर्स करते समय आपकी 12वीं कक्षा के योग्यता के आधार पर कोर्स करवाए जाएंगे और बीए की डिग्री का वहां कोई मतलब नहीं होगा।

अगर आपने 10 वीं कक्षा के बाद आर्ट्स विषय की पढ़ाई की है और आर्ट्स विषय से ग्रेजुएशन कंप्लीट की है और फिर भी आप डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आपको बता दें कि आप को फिर से 12वीं कक्षा की पढ़ाई करनी होगी और आपको साइंस स्ट्रीम के बायोलॉजी विषय को चुनना होगा तभी आप मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम जैसे NEET, NEET PG आदि एग्जाम देकर किसी मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए आवेदन कर सकते हैं।

अब आइए बात करते हैं उन स्टूडेंट्स के बारे में जिन्होंने 12वीं साइंस स्ट्रीम के बायोलॉजी विषय से पास की है और बाद में बीए में ग्रेजुएशन कंप्लीट की है तो वह कौन-कौन से मेडिकल कोर्स कर सकते हैं।

बीए के बाद मेडिकल कोर्स (BA Ke Baad Medical Course)

जैसा कि हमने आपको ऊपर बता दिया है कि अगर आप 12वीं में आर्ट सब्जेक्ट से हो तो आप डॉक्टर नहीं बन सकते हैं लेकिन कई स्टूडेंट ऐसे होते हैं जो 12वीं साइंस स्ट्रीम के पीसीबी विषय से पास करते हैं और बीए में ग्रेजुएशन करने के बाद डॉक्टर बनना चाहते हैं या मेडिकल कोर्स करना चाहते हैं तो वह इनमें करियर बना सकते हैं। अब आप BA के बाद मेडिकल कोर्स के बारे में बताते हैं।

#1 बीएससी नर्सिंग (BSc Nursing)

आपको तो पता ही होगा कि हॉस्पिटल में डॉक्टर के अलावा नर्स का भी महत्वपूर्ण काम होता है क्योंकि डॉक्टर के हर काम में नर्स की जरूरत होती है। इसलिए 12वीं के बाद आप बीएससी नर्सिंग कोर्स की अच्छी पढ़ाई करके आप किसी हॉस्पिटल, लेबआदि में आसानी से जॉब पा सकते हैं।

बीएससी नर्सिंग कोर्स करने के लिए आपकी उम्र कम से कम 17 साल होनी चाहिए और बीएससी नर्सिंग कोर्स सरकारी कॉलेज से करने पर आपको 10 हजार से 40 हजार रुपए तक का खर्चा आएगा लेकिन बीएससी नर्सिंग कोर्स करने के बाद इसमें कैरियर बनाना आसान होता है।

बीएससी नर्सिंग कोर्स करने के बाद आप स्टाफ नर्स, हॉस्पिटल मैनेजर, मिलिट्री नर्स, होम केयर नर्स, इंडस्ट्रियल नर्स आदि जैसे जॉब पोस्ट पा सकते हैं और हर महीने 20 हजार से 40 हजार रुपए तक की सैलरी भी पा सकते हैं।

#2 एएनएम का कोर्स (ANM Course Details)

एएनएम एक ऐसा मेडिकल कोर्स इसमें अगर आपने 12वीं आर्ट्स विषय से पास की है फिर भी आप इस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं और मेडिकल के क्षेत्र में कैरियर बना सकते हैं लेकिन आपको बता दें कि इसमें बीए की डिग्री का कोई फायदा आपको नहीं मिलेगा आपको 12वीं के आधार पर ही योग्यता दी जाएगी।

ANM Ki Full Form होती है “Auxiliary Nurse Midwifery” और इस कोर्स को सरकारी कॉलेज से करने पर 10 हजार से 50 हजार रुपए तक का खर्चा आता है तथा इस कोर्स के बाद आपको नर्सिंग होम, प्राइवेट हॉस्पिटल, क्लीनिक आदि जगहों पर जॉब मिल जाएगी और आपको हर महीने 10 हजार से 25 हजार तक की सैलरी मिल सकती है।

#3 जीएनएम कोर्स (GNM Course Ki Jankari)

जीएनएम कोर्स करने के लिए आपको 12वीं में साइंस स्ट्रीम के बायोलॉजी विषय की पढ़ाई करनी जरूरी होती है तभी आप इस कोर्स में दाखिला पा सकते हैं यह कोर्स आर्ट्स विषय वाले स्टूडेंट नहीं कर सकते हैं। इस कोर्स की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें आपको नर्सिंग ऑपरेशन एक्सपर्ट की तरह कार्य करने सिखाए जाते हैं।

GNM Full Form In Hindi “जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी” होता है तथा इस कोर्स की फीस भी एएनएम कोर्स की फीस के जितनी ही होती है तथा इस कोर्स के बाद आप स्टाफ नर्स, होम नर्स, हेल्थ विजिटर, कम्युनिटी हेल्थ नर्स, नर्स सुपरवाइजर आदि के तौर पर कार्य कर सकते हैं और इन जॉब्स में हर महीने 15 हजार से 30 हजार रुपए की सैलरी दी जाती है।

#4 पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा (PG Diploma in Yoga)

यह एक ऐसा कोर्स है जिसमें अगर आपने 12वीं कक्षा किसी भी स्ट्रीम से पास की हो तो भी आप यह कोर्स कर सकते हैं यानी आर्ट्स वाले स्टूडेंट भी यह कोर्स कर सकते हैं और मेडिकल के क्षेत्र में आगे बढ़ सकते हैं। इसमें जरूरी यह है कि आपने ग्रेजुएशन कम से कम 50% मार्क्स से पास की हो। पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा की फीस 40 हजार से 1 लाख रुपए तक होती है तथा सरकारी कॉलेजों में इससे कम भी होती है।

पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा को कंप्लीट करने में आपको 1 से 2 साल का समय लगता है तथा इस कोर्स में योग से जुड़ी हर जानकारी और नॉलेज दिया जाता है। इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आप एक योग सलाहकार, योग विशेषज्ञ, योग चिकित्सक, योग टीचर, योग असिस्टेंट, योगा इंस्ट्रक्टर आदि की जॉब प्राप्त कर सकते हैं और इसमें आपको हर महीने 20 हजार से 30 हजार रुपए की सैलरी मिलती हैं।

#5 पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ (PG Diploma in Public Health) 

इस कोर्स को करने के लिए आपके पास बीए, बीएससी, बीएससी नर्सिंग, फार्मेसी जेसी ग्रेजुएशन बैचलर डिग्री की जरूरत होती है तभी आप इन कोर्स में एडमिशन पा सकते हैं। पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ की पढ़ाई करने में आपको 2 साल का समय लगेगा तथा इस कोर्स की फीस 20 हजार से 1 लाख रुपए तक हो सकती है।

इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आपको हेल्थ केयर मैनेजर, इमरजेंसी रिस्पांस ऑफिसर, रिसर्च डाटा सपोर्ट मैनेजर आदि जैसी अच्छी जॉब पोस्ट मिल जाएगी तथा आपको इसके बाद हर महीने 15 हजार से 30 हजार रुपए तक की सैलरी आसानी से मिल जाएगी बता धीरे-धीरे आप साल का 5 लाख रुपए तक भी कमा सकते हैं।

#6 पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी (PG Diploma in Yoga Therapy Details)

पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा थेरेपी की पढ़ाई कंप्लीट करने में आपको सिर्फ 1 साल का समय लगता है और इस कोर्स करने के लिए योग्यता यह होनी चाहिए कि आप किसी भी विषय में कम से कम 50% मार्क्स से ग्रेजुएशन डिग्री प्राप्त किए हो। इस कोर्स की फीस लगभग 40 हजार से 50 हजार रुपए होती है तथा भारत में कई कॉलेज और यूनिवर्सिटी यह कोर्स करवाते हैं।

इस कोर्स में आपको योगा थेरेपी, योगा थेरेपी की टेक्निक, साइकोलॉजी का परिचय, योगा का इतिहास आदि योगा से जुड़ी हुई जानकारी सिखाई जाती है तथा यह कोर्स करने के बाद आप किसी आयुर्वेदिक केंद्र, प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र, सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटल आदि जगहों पर जॉब पा सकते हैं।

आपको न्यूरोपैथी टीचर, योगा थैरेपिस्ट, योगा टीचर, योगा इंस्ट्रक्टर, रिसर्चर आदि की पोस्ट पर जॉब मिलती है तथा हर महीने इनको 20 हजार से 25 हजार रुपए की सैलरी दी जाती है।

#7 डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी (Diploma in Physiotherapy)

अगर आपने 12वीं कक्षा साइंस स्ट्रीम से कम से कम 45% मार्क्स से पास की है तो आप भी यह कोर्स कर सकते हैं इस कोर्स में आपको फिजियोलॉजी, फार्मोकोलॉजी, इलेक्ट्रोथेरेपी, माइक्रोबायोलॉजी आदि जैसे विषयों का अध्ययन करवाया जाता है। डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी कोर्स 2 साल का कोर्स होता है तथा इस कोर्स की फीस 50 हजार से 4 लाख रुपए तक हो सकती है।

यह कोर्स करने के बाद आपके पास कई कैरियर ऑप्शन होते हैं तथा आप थेरेपी मैनेजर, रिसर्च असिस्टेंट, फिजियोथैरेपिस्ट आदि बन सकते हैं तथा इसमें आपकी सैलरी हर महीने 30 हजार से 40 हजार रुपए तक होती है।

डॉक्टर बनने की तैयारी कैसे करें (Doctor Banne Ke Liye Kya Kare)

जिन स्टूडेंट को बचपन से ही डॉक्टर बनने की इच्छा होती है वह 10वीं के बाद साइंस स्ट्रीम से बायोलॉजी विषय पढ़ना पसंद करते हैं और उसके बाद डॉक्टर बनने की तैयारी में लग जाते हैं लेकिन कई स्टूडेंट 10वीं के बाद आर्ट्स विषय ले लेते हैं और फिर डॉक्टर बनने की सोचते हैं तो वह स्टूडेंट फिर से 12वीं में साइंस स्ट्रीम से बायोलॉजी विषय की पढ़ाई करके डॉक्टर बनने की तैयारी शुरू कर सकते हैं। अब आपको How To Become A Doctor In India After 12th के बारे में जानकारी देते हैं।

  • डॉक्टर बनने के लिए सबसे जरूरी है कि आपने 12वीं कक्षा में बायोलॉजी विषय की पढ़ाई की हो तथा अच्छे मार्क्स से 12वीं कक्षा पास की हो इसलिए ध्यान रहे 12वीं में आपने PCB सब्जेक्ट चुना हो।
  • इसके बाद आपको मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम जैसे NEET, NEET PG, PMET, JIPMER, AIIMS, AFMC आदि की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।
  • मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम की अच्छी पढ़ाई करके आपको मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करना है तथा उसके बाद आपको एक अच्छा मेडिकल कॉलेज मिल जाएगा जिसमें आपको एमबीबीएस की पढ़ाई करवाई जाएगी।
  • एमबीबीएस की पढ़ाई करने में आपको साढे पांच साल का समय लगेगा जिसमें से आपको 1 साल का समय इंटर्नशिप पूरी करने में लगेगा।
  • एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करने के बाद अगर आप मेडिकल में स्पेशलिस्ट जैसे डर्मेटोलॉजिस्ट, डेंटिस्ट आदि बनना चाहते हैं तो उनका भी कोर्स कर लेना चाहिए।
  • इन सब के बाद आप एक सफल डॉक्टर बन सकते हैं और आप हर महीने 50 हजार से 2 लाख रुपए तक आसानी से कमा सकते हैं।

Also Read: जानिए कम पैसे में डॉक्टर कैसे बने

क्या आर्ट्स वाले डॉक्टर बन सकते हैं (Kya Arts Wale Doctor Ban Sakte Hain)

जैसा कि हमने आपको पहले ही बता दिया है कि अगर आपने 10वीं के बाद आर्ट्स विषय चुना है और इसी विषय से डिग्री हासिल की है तो आप डॉक्टर नहीं बन सकते हैं वहीं यदि अगर आपने 10वीं के बाद साइंस विषय चुना हो और उसके बाद अगर आपने आर्ट्स में बैचलर डिग्री की पढ़ाई की है तो आप डॉक्टर बन सकते हैं।

अगर आप फिर भी डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आपको 12वीं कक्षा की पढ़ाई बायोलॉजी विषय से फिर से करनी होगी या इसके अलावा हमने जो आपको कोर्स बताएं हैं वे कोर्स कंप्लीट करके मेडिकल के क्षेत्र में कैरियर बना सकते हैं। आर्ट्स विषय में भी कई बेहतर कैरियर ऑप्शंस हैं और आप एक वकील, टीचर, आईएएस अधिकारी, जर्नलिस्ट, रेलवे ऑफिसर, इनकम टैक्स ऑफिसर आदि बन सकते हैं। इसलिए निराश ना हो कि आप डॉक्टर नहीं बन सकते बल्कि आपको आर्ट्स में बेहतर जॉब की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

क्या आर्ट्स वाले नीट दे सकते हैं (Kya Arts Wale NEET De Sakte Hain)

नहीं, आर्ट्स वाले NEET Exam नहीं दे सकते हैं क्योंकि इस एग्जाम को देने के लिए योग्यता होती है कि आपने 12वीं कक्षा साइंस स्ट्रीम के बायोलॉजी विषय पढ़कर पास की हो। बायोलॉजी विषय वाले स्टूडेंट नीट एग्जाम देकर मेडिकल कॉलेज में एडमिशन पा सकते हैं और उन्हें बाद में एमबीबीएस की पढ़ाई करवाई जाती है ताकि वे एक अच्छे डॉक्टर बन सके। 

FAQs – आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने।

आर्ट विषय के साथ डॉक्टर कैसे बनें, इससे संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न।

#1 भारत में एक डॉक्टर की सैलरी कितनी होती है?

भारत में एक डॉक्टर की सैलरी हर महीने 50 हजार से 1 लाख रुपए तक होती है तो तो कई बड़े हॉस्पिटल में इससे ज्यादा भी सैलरी दी जाती है। एक अनुभवी डॉक्टर और मेडिकल के क्षेत्र में स्पेशलिस्ट डॉक्टर इससे ज्यादा की कमाई करते हैं।

#2 बीए के बाद कौनसे मेडिकल कोर्स कर सकते हैं?

बीए में ग्रेजुएशन करने के बाद आप कई मेडिकल कोर्स कर सकते हैं जिनमें से कुछ प्रमुख मेडिकल कोर्स के नाम इस प्रकार हैं।

  • BSc Nursing
  • ANM Course
  • GNM Course
  • PG Diploma in Yoga
  • PG Diploma in Yoga Therapy
  • PG Diploma in Public Health
  • Advance Diploma in Clinical Data Management
  • Diploma in Medical Laboratory Technology
  • Diploma in Physiotherapy
  • Advance Diploma in Medical Imaging Technology

निष्कर्ष – Arts Subject Se Doctor Kaise Bane

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बने के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में बताई है। इसके अलावा बीए के बाद मेडिकल कोर्स, क्या आर्ट्स वाले डॉक्टर बन सकते हैं, डॉक्टर बनने की तैयारी कैसे करें आदि के बारे में भी बताया है।

अगर आज का यह आर्टिकल आपको पसंद आया है तो इसे आगे भी जरूर शेयर कीजिए तथा इस आर्टिकल से संबंधित कोई भी सवाल हो तो हमसे जरूर पूछें।

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

Leave a Comment