माइक्रोबायोलॉजी किसे कहते हैं | माइक्रोबायोलॉजी के जनक कौन है (Microbiology Kya Hoti Ha, Microbiology Ke Janak Kaun Hai) 2023

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

What Is Microbiology in Hindi, What Is Microbiology Definition, Microbiology Ke Janak Kaun Hai, माइक्रोबायोलॉजी के फादर कौन है, माइक्रोबायोलॉजी के इतिहास, माइक्रोबायोलॉजी के जनक कौन है, माइक्रोबायोलॉजी में कैरियर कैसे बनाएं आदि के बारे में पूरा पढ़ें।

आज के दौर में ज्यादातर स्टूडेंट्स को 12वीं के बाद माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करना ज्यादा पसंद आ रहा है और वे स्टूडेंट्स माइक्रोबायोलॉजी में कैरियर बनाना चाहते हैं। लेकिन कई स्टूडेंट्स को माइक्रोबायोलॉजी के बारे में जानकारी सही से पता नहीं होती, तो इसीलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको Microbiology Kya Hai in Hindi, Microbiology Ke Janak Kaun Hai आदि के बारे में पूरी जानकारी देंगे।

इसके साथ हम आपको माइक्रोबायोलॉजी के इतिहास, Microbiology Course Details, Microbiology Course Kaise Kare In Hindi, आदि के बारे में भी बताएंगे इसलिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

माइक्रोबायोलॉजी किसे कहते हैं, माइक्रोबायोलॉजी के जनक कौन है (Microbiology Kya Hoti Ha, Microbiology Ke Janak Kaun Hai) 2023
Content Headings show

माइक्रोबायोलॉजी किसे कहते हैं (What Is Microbiology)

बायोलॉजी की वह शाखा जिसमें सूक्ष्म जीवों के ऊपर अध्ययन करवाया जाता है और उन सूक्ष्मजीवों के अच्छे और बुरे प्रभाव के बारे में भी बताया जाता है उसे माइक्रोबायोलॉजी कहते हैं। माइक्रोबायोलॉजी में सूक्ष्म जीव जैसे बैक्टीरिया, वायरस, फंगी, प्रोटोजोआ, शैवाल, कवक आदि जैसे सूक्ष्म जीवों के बारे में बताया जाता है।

जानवरों, इंसानों और पादपों पर सूक्ष्मजीवों के कई अच्छे और बुरे प्रभाव होते हैं, इन्हीं के बारे में माइक्रोबायोलॉजी में अध्ययन कराया जाता है और रोगों के कारण, रोगों के इलाज आदि का पता लगाया जाता है। जितने भी रोग वायरस आदि से फैलते है तो उसका पता माइक्रोबायोलॉजी से ही लग सकता है, और उस रोग के वैक्सीन, रोग को कम करने के उपाय आदि का पता लगाने में माइक्रोबायोलॉजी की सहायता ली जाती है।

पिछले कुछ वर्षों में वायरस और अन्य कई सूक्ष्म जीवों से फैलने वाले रोग बढ़ रहे है इसी कारण माइक्रोबायोलॉजी के क्षेत्र में माइक्रोबायोलॉजिस्ट की मांग बढ़ रही है और इस वजह से रोजगार के नए अवसर पैदा हो रहे है। इस कारण माइक्रोबायोलॉजी में कैरियर आसानी से बना सकते है।

Also Read: जानिए बीएससी माइक्रोबायोलॉजी क्या है?

माइक्रोबायोलॉजी के जनक कौन है (Microbiology Ke Janak Kaun Hai)

माइक्रोबायोलॉजी के जनक एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक (Antonie van Leeuwenhoek) है और कोई लोग इन्हें अलग तरीके से Microbiology Ke Father नाम से भी जानते हैं। यह डच के व्यापारी और एक वैज्ञानिक थे और इन्होंने ही सूक्ष्मदर्शी और सूक्ष्म जीवों के बारे में सबसे पहले बताया था। साल 1676 में इन्होंने सूक्ष्म जीवों के बारे में अवलोकन और रिसर्च करके सबको बताया था।

एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक ने माइक्रोबायोलॉजी के क्षेत्र में बहुत बड़ा योगदान दिया है और इनको सूक्ष्म दर्शी यानी माइक्रोस्कोप के विकास करने के लिए भी जाना जाता है। इन्होंने माइक्रोस्कोप के आवर्धन क्षमता को 20 गुना से 270 गुना तक बढ़ाया था।

इन्होंने बैक्टीरिया और प्रोटोजोआ का परीक्षण अपने एकल लेंस वाले सूक्ष्मदर्शी के द्वारा किया था तथा साल 1674 में इन्होंनें एनिमलक्यूलस नामक एक कोशिक जीव की खोज की थी। Microbiology Ke Pita एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक ने 1677 में स्तनधारी जीवों में शुक्राणु होने का पता लगाया था। माइक्रोबायोलॉजी और बैक्टीरियोलॉजी में एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक का अद्भुत योगदान है।

माइक्रोबायोलॉजी का इतिहास (Microbiology History)

माइक्रोबायोलॉजी का इतिहास बहुत साल पुराना है । यह बहुत साल पुरानी बात है कि साल 1674 में एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक नाम का एक आदमी जो कपड़े बनाता था और बेचता था। कपड़ों को नजदीकी से और बारीकी से देखने के लिए एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक ने लेंस की मदद से माइक्रोस्कोप बनाया था।

धीरे-धीरे उन्होंने इसके बारे में अध्ययन करके सूक्ष्म जीवो को देखने के लिए सूक्ष्म दर्शी बना दी थी तभी से माइक्रोबायोलॉजी की शुरुआत हुई थी। एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक जिन्हें Father Of Microbiology के नाम से भी जाना जाता है उन्होंने सूक्ष्म जीवों की खोज की थी।

माइक्रोबायोलॉजी शब्द ग्रीक भाषा के शब्द “मिक्रोस” से बना है और इसका अर्थ होता है छोटा जीवन या छोटा जीव। इससे मिलकर ही माइक्रोबायोलॉजी शब्द उत्पन्न हुआ है जिसका अर्थ होता सूक्ष्म जैविकी है।

एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक ने सूक्ष्म दर्शी का उपयोग करके सूक्ष्म जीवों की खोज की थी और इसके बारे में रॉयल सोसाइटी ऑफ लंदन को भी बताया था ताकि सबको सूक्ष्म जीवों के बारे में पता चल सके और सूक्ष्म जीवों के अच्छे और बुरे प्रभाव का भी पता लगाया।

माइक्रोबायोलॉजी कोर्स कैसे करें (Microbiologist Kaise Bane)

अगर कोई स्टूडेंट माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करना चाहता है तो वो Microbiology Courses After 12th कर सकते हैं । इसके बाद आप माइक्रोबायोलॉजी के क्षेत्र में अपना अच्छा कैरियर बना सकते हैं। 

सबसे पहले बीएससी माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करना होता है और इसके बाद आप माइक्रोबायोलॉजी में मास्टर डिग्री भी कर सकते हैं। माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करने के लिए आपको निम्नलिखित प्रोसेस से गुजरना होता है।

  • सबसे जरूरी है कि माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करने के लिए योग्यता होनी चाहिए यानी आपने कक्षा 12वीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी की पढ़ाई की हो और आपने कक्षा 12वीं कम से कम 55% मार्क्स से पास की हो।
  • उसके बाद माइक्रोबायोलॉजी कॉलेज में एडमिशन के लिए अप्लाई करना होता है जिसके लिए कई कॉलेज आपके 12वीं के मार्क्स के आधार पर एडमिशन लेते हैं जबकि कुछ कॉलेज इसके लिए NEET, CEED, CUET, RUET, IPU CET, NPAT, CUCET आदि जैसे एंट्रेंस एग्जाम आयोजित करवाते हैं।
  • एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद आपको अच्छे कॉलेज में एडमिशन मिल जाता है और बीएससी माइक्रोबायोलॉजी जो 3 साल का अंडर ग्रेजुएट कोर्स होता है आपको वो कंप्लीट करना होता है।
  • बीएससी माइक्रोबायोलॉजी कोर्स के बाद अगर आप चाहे तो इसमें मास्टर डिग्री भी हासिल कर सकते हैं और इसके अलावा आप माइक्रोबायोलॉजी के क्षेत्र में कोई जॉब भी कर सकते हैं।
  • आप किसी पर सरकारी या प्राइवेट हॉस्पिटल, क्लीनिक, लैब, फार्मा कंपनी, बेवरेज कंपनी आदि में माइक्रोबायोलॉजिस्ट के तौर पर काम कर सकते हैं।

Also Read: जानिए बीएससी माइक्रोबायोलॉजी में कैरियर कैसे बनाए?

माइक्रोबायोलॉजी से जुड़े कोर्स 

माइक्रोबायोलॉजी में कैरियर बनाने के लिए इसमें कई कोर्स होते हैं जिनकी आप अच्छे से पढ़ाई करके एक सफल माइक्रोबायोलॉजिस्ट बन सकते हैं। माइक्रोबायोलॉजी से जुड़े कुछ अच्छे कोर्स निम्नलिखित है जो आपके कैरियर निर्माण में काफी सहायता करेंगे।

ग्रेजुएशन कोर्स लिस्ट

  • BSc In Microbiology
  • BSc In Food Technology
  • BSc In Clinical Microbiology
  • BSc In Industrial Microbiology

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स लिस्ट

  • MSc In Microbiology
  • MSc In Medical Microbiology
  • MSc In Microbial Genetics and Bio Information
  • MSc In Industrial Microbiology

इन कोर्स के अलावा भी माइक्रोबायोलॉजी से जुड़े कई अच्छे और कैरियर बनाने में मदद करने वाले कोर्स उपलब्ध है जो आप कर सकते हैं। 

माइक्रोबायोलॉजी कोर्स फीस (Microbiology Course Fees)

माइक्रोबायोलॉजी कोर्स फीस आपके कॉलेज पर निर्भर करती है यानी अगर आप कोई माइक्रोबायोलॉजी कोर्स किसी सरकारी कॉलेज या यूनिवर्सिटी से कर रहे हैं तो आपकी फीस कम होगी वहीं अगर आप किसी प्राइवेट कॉलेज या यूनिवर्सिटी से यह कोर्स कर रहे हैं तो आपके फीस ज्यादा होगी।

फिर भी एवरेज माइक्रोबायोलॉजी कोर्स फीस के बारे में बताएं तो आप सरकारी कॉलेज से 20 हजार से 60 हजार रुपए तक यह कोर्स कंप्लीट कर सकते हैं और प्राइवेट कॉलेज में 50 हजार से 2 लाख रुपए तक यह कोर्स कंप्लीट कर सकते हैं। अगर आप माइक्रोबायोलॉजी के क्षेत्र में मास्टर डिग्री या आगे के और कोर्स करना चाहते हैं तो उसकी भी अलग फीस होती है।

बीएससी माइक्रोबायोलॉजी कॉलेज (BSc Microbiology Colleges)

बीएससी माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करने के लिए आप निम्नलिखित बीएससी माइक्रोबायोलॉजी कॉलेज में दाखिला ले सकते हैं।

  • AIIMS, New Delhi
  • Annamalai University, Tamil Nadu
  • Jaipur National University, Jaipur
  • St Xaviers College, Mumbai
  • Jain University, Bangalore
  • University of Delhi, Delhi
  • Manipal University, Jaipur
  • Amity University, Jaipur
  • Singhania University, Jhunjhunu

एमएससी माइक्रोबायोलॉजी कॉलेज (MSc Microbiology Colleges)

एमएससी माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करने के लिए भारत में कुछ अच्छे कॉलेज की सूची इस प्रकार है। 

  • Fergusson College, Pune
  • St Xaviers College, Kolkata
  • Lovely Professional University, Jalandhar
  • Parul University, Vadodara
  • Chandigarh University, Chandigarh
  • Amity University, Noida
  • University of Mysore, Mysore

माइक्रोबायोलॉजी जॉब्स (Microbiology Job Opportunities)

माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करने के बाद आपके पास कई तरह के जॉब पाने के अवसर होते हैं क्योंकि Microbiology Career Scope है और फिर आप माइक्रोबायोलॉजी से जुड़े प्राइवेट सेक्टर या गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब कर सकते हैं। माइक्रोबायोलॉजी से जुड़ी जॉब कुछ इस प्रकार है।

  • Food Technologist
  • Research Scientist
  • Lab Technician
  • Pharmacologist
  • Microbiologist
  • Scientist in Life Science
  • Food and Industrial Microbiologists
  • Microbiology Teacher

इन जॉब्स के अलावा भी माइक्रोबायोलॉजी से संबंधित कई क्षेत्रों में आपको जॉब मिल जाएगी और आप एक अच्छे माइक्रोबायोलॉजिस्ट बन जाएंगे।

माइक्रोबायोलॉजी कंपनियां (Microbiology Company In India)

भारत में कई माइक्रोबायोलॉजी कंपनियां हैं जिसमें आप एक माइक्रोबायोलॉजिस्ट के तौर पर जॉब पा सकते हैं और अपने कैरियर की शुरुआत कर सकते हैं। माइक्रोबायोलॉजी से जुड़ी कंपनियों के नाम कुछ इस प्रकार है।

  • Lupin Pharmaceuticals
  • Emcure Pharmaceuticals
  • Sun Pharma
  • Bisleri
  • Ajanta Pharma
  • Jubilant Food Works
  • Britannia
  • Dr Reddy’s Lab
  • Bharat BioTech
  • Cipla Pharma
  • The Himalaya Drug Company
  • Gland Pharma Limited
  • Flamingo Pharmaceuticals
  • Intas Pharmaceuticals
  • Johnson and Johnson
  • Serum Institute of India

माइक्रोबायोलॉजी सैलेरी (Microbiology Jobs Salary)

माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करने के बाद आप माइक्रोबायोलॉजी से जुड़े किसी भी क्षेत्र में चाहे वह फार्मा कंपनी हो, हॉस्पिटल हो, रिसर्च लैब हो आदि में जॉब पा सकते हैं। अगर आप कोई प्राइवेट जॉब करते हैं तो आपकी सैलरी शुरुआत में तो कम होगी लेकिन समय और एक्सपीरियंस के साथ आपकी सैलरी में बढ़ोतरी होगी। जबकि सरकारी जॉब में अच्छी सुविधा और अच्छी सैलरी दोनों मिलती है।

फिर भी एवरेज Microbiologist Salary की बात करें तो 20 हजार से 40 हजार रुपए हर महीने की सैलरी होती है और अनुभव बढ़ने पर आपकी सैलरी 50 हजार से 1 लाख रुपए तक हो सकती है। अगर किसी विदेशी कंपनी में आप माइक्रोबायोलॉजिस्ट के तौर पर जॉब करेंगे तो इससे ज्यादा भी आपकी सैलरी हो सकती है।

FAQs – माइक्रोबायोलॉजी किसे कहते हैं ,माइक्रोबायोलॉजी के फादर कौन है।

माइक्रोबायोलॉजी से संबंधित कुछ अक्सर पूछे जाने। वाले  सवाल नीचे दिए गए हैं ।

माइक्रोबायोलॉजी का अर्थ क्या है?

माइक्रोबायोलॉजी का अर्थ सूक्ष्म जैविकी है और माइक्रोबायोलॉजी में वायरस, प्रोटोजोआ, फंगी आदि जैसे सूक्ष्म जीवों जिन्हें हम माइक्रोस्कोप के बिना नहीं देख सकते हैं उनके ऊपर रिसर्च की जाती है। उन सूक्ष्म जीवों का प्रकृति पर जिसमें इंसान, पेड़-पौधे, जीव-जंतु शामिल है उन पर कैसा प्रभाव पड़ता है इसके बारे में भी अध्ययन करते हैं।

माइक्रोबायोलॉजी कितने साल की होती है?

बीएससी माइक्रोबायोलॉजी आप 3 साल में कंप्लीट कर सकते हैं क्योंकि यह 3 साल का अंडरग्रैजुएट कोर्स होता है और अगर आप चाहे तो माइक्रोबायोलॉजी में मास्टर डिग्री भी कर सकते हैं जिसमें कुछ और साल लग सकते हैं।

माइक्रोबायोलॉजी के बाद क्या कर सकते हैं?

माइक्रोबायोलॉजी के बाद आपके पास गई माइक्रोबायोलॉजी जॉब ऑप्शन होते हैं इसलिए आप कोई जॉब कर सकते हैं या फिर आगे पढ़ना चाहे तो माइक्रोबायोलॉजी में पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं।

बैक्टीरिया की खोज कब हुई?

बैक्टीरिया की खोज Microbiology Ke Janak कहे जाने वाले एंटोनी वोन ल्यूवेनहोक ने साल 1675 में बारिश के पानी और तालाब के पानी में सूक्ष्म दर्शी का उपयोग करते हुए की थी।

भारत में माइक्रोबायोलॉजी का स्कोप क्या है?

भारत में माइक्रोबायोलॉजी से जुड़े क्षेत्रों में भी कई जॉब के अवसर है क्योंकि भारत में कई हॉस्पिटल, रिसर्च इंस्टिट्यूट, फार्मास्यूटिकल कंपनियां, बेवरेज कंपनियां, बियर मेकिंग कंपनियां, कॉस्मेटिक्स कंपनियां आदि माइक्रोबायोलॉजी से जुड़े सेक्टर है जिनमें आप अपना कैरियर बना सकते हैं।

क्या माइक्रोबायोलॉजी एक अच्छा कैरियर  है?

हां माइक्रोबायोलॉजी एक अच्छा कैरियर है क्योंकि पिछले कुछ सालों में माइक्रोबायोलॉजिस्ट की मांग बढ़ी है और आने वाले समय में भी मांग बढ़ती रहेगी क्योंकि माइक्रोबायोलॉजी सबसे जरूरी क्षेत्र है। इस कारण कोई माइक्रोबायोलॉजी कोर्स करके अच्छा कैरियर बनाना आपके लिए फायदे का सौदा साबित होगा।

माइक्रोबायोलॉजी का क्या महत्व है?

आज के समय में माइक्रोबायोलॉजी का महत्व पहले से ज्यादा बढ़ गया है। माइक्रोबायोलॉजी का उपयोग कई बीमारियों के कारण जानने, रोगों के इलाज जानने, बायो टेक्नोलॉजी, पर्यावरण संरक्षण, मेडिकल सर्विसेज आदि में होता है

बीएससी माइक्रोबायोलॉजी के बाद कौन सा कोर्स कर सकते हैं?

अगर आप चाहे तो बीएससी माइक्रोबायोलॉजी के बाद कई कोर्स है उनमें से कोई भी एक सिलेक्ट कर सकते हैं इसके अलावा आप कम समय में कोई कोर्स करना चाहते हैं तो आप एमएससी बायोटेक्नोलॉजी कोर्स कर सकते हैं। 

निष्कर्ष – माइक्रोबायोलॉजी क्या हैं, माइक्रोबायोलॉजी के फादर कौन है।

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको माइक्रोबायोलॉजी किसे कहते हैं, माइक्रोबायोलॉजी के जनक कौन है, Microbiology Course Details आदि के बारे में पूरी जानकारी बताई है
हमें उम्मीद है आपको यह आर्टिकल जिसमें हमने Microbiology Full Details In Hindi में बताया है काफी पसंद आया होगा। अगर पसंद आया तो इसे आगे भी शेयर जरूर करें और कोई सवाल हो तो हमसे जरूर पूछें।

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp channel (Join Now) Join Now

Leave a Comment